गोठड़ा माता जी की भविष्यवाणी 2020 – क्यों नहीं हुई भविष्यवाणी

नमस्कार किसान भाइयों आज हम आपको गोठड़ा माता जी की भविष्यवाणी 2020 के बारे में सही जानकारी देने वाले हैं.

दरअसल हर साल की तरह चैत्र मास की नवरात्रि में नवमीं के दिन रतलाम के आखिर सीमा पर मलेनी तट के निकट गांव गोठड़ा में श्री महिषासुर मर्दनी मां गोठड़ा माता जी की भविष्यवाणी होती है. जिसे सुनने के लिए मध्यप्रदेश के आसपास के पांच राज्यों के लोग एक जुट होते परन्तु इस साल दिनांक 2/04/2020 को यह भविष्यवाणी नही हुई.

Gothda Mataji Ki Bhavishyavani 2020

गोठड़ा माता जी की भविष्यवाणी इसलिए नही हुई क्योंकि विश्व भर में कोरोनो के भयंकर संकट आने से श्री महिषासुर मर्दनी मां गोठड़ा माता जी मंदिर समिति के सदस्य अध्यक्ष कपिल जी पौराणिक और ट्रस्टी नारायण सिंह जी इस साल इस भविष्यवाणी को निरस्त किया है. यह सोशल डिस्टेंसिंग के पालन को लेकर इस कोटड़ा माता की भविष्यवाणी को रद्द किया गया है.

इसे भी पढ़े :-

कलोंजी की खेती कैसे करे पूरी जानकारी

इस कारण से पिछले साल 2019 की तरह इस बार 2 अप्रैल को कोई भी भविष्यवाणी नही हुई है. आपकी जानकारी के लिए बता दे कि गोठड़ा माताजी की भविष्यवाणी 105 सालों से लगातार होती आ रही है परंतु 105 सालों में यहां पहला मौका होगा जब यहां कोई भी भविष्यवाणी नहीं हुई.

इसके अलावा हर साल की की तरह ज्वारा विर्सजन, सामुहिक यज्ञ, हवन, आरती इत्यादि बड़े आयोजन भी निरस्त किये गए.

दरअसल गोठडा माता जी की भविष्यवाणी में लहसुन के भाव की भविष्यवाणी, कलोंजी के भाव, राजनितिक भविष्यवाणी और प्याज के भाव तथा अन्य फसलो के तेजी मंदी के बारे में जानकारी व् भविष्यवाणी की जाती है.

तो किसान भाइयों आपको गोठड़ा माताजी की भविष्यवाणी 2020 के बारे में सही समाधान मिल ही गया होगा. इस जानकारी से जुडे कोई भी सवाल हो तो आप हमें कमेंट में पूछ सकते हैं और इस जानकारी को सभी किसानों को शेयर जरूर करे.

Ranjeet Singh
Ranjeet Singh

नमस्कार किसान भाइयों, मेरा नाम रणजीत सिंह है. हमारी इस सेवा पर उन्नत वैज्ञानिक खेती और जेविक खेती करने से सम्बंधित सभी जानकारी दी जाती है. यदि आपको यह सेवा पसंद आती है तो हमें फॉलो जरुर करें. हमारे Youtube चैनल Ranjeet Bana को Subsribe जरुर करें.

किसान समाधान के लिए मंदसौर मंडी भाव की इस पोस्ट को शेयर जरुर करे ताकि सभी को लाभ मिले !

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.